वन एवं वन्य जीव विभाग,

उत्तर प्रदेश सरकार, भारत

श्री योगी आदित्यनाथ

माननीय मुख्यमंत्री,उत्तर प्रदेश

श्री दारा सिंह चौहान

माननीय मंत्री,वन विभाग

वन अनुसंधान संस्थान, कानपुर

उद्देश्य

राज्य वन अनुसंधान कानपुर सहित उ.प्र. वन एवं वन्य जीव विभाग की अनुसंधान शाखा को वनों तथा प्राकृतिक संसाधनों के वैज्ञानिक अनुसंधान, विकास एवं अनुप्रयोग की जिम्मेदारी सौंपी गयी है जिससे कि उपयुक्त प्रौद्योगिकियों के विकास से हमेशा के लिए पेड़ों / वन उत्पादों और उनसे, संबंधित सेवाओं के सतत उपलब्धता में वृद्धि के लिए कुशल प्रबंधन तथा पेड़ों एवं अन्य वन संसाधनों का उपयोग किया जा सके।

स्थान

राज्य वन अनुसंधान केंद्र, कानपुर, उत्तर प्रदेश राज्य के केन्द्र में स्थित है। यह लखनऊ से लगभग 90 किलोमीटर दूर दक्षिण में है।यह परिसर कानपुर शहर के उत्तरी भाग में प्रसिद्ध एलन वन का एक हिस्सा है। कानपुर में हवाई के साथ-साथ रेल मार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। निकटतम हवाई अड्डा, अमौसी (लखनऊ) लगभग 80 किलोमीटर की दूरी पर है।कानपुर सेंट्रल रेलवे स्टेशन, राज्य वन अनुसंधान केंद्र परिसर से लगभग 8 किलोमीटर दूर है।

संगठन

: राज्य वन अनुसंधान संस्थान, उत्तर प्रदेश, मुख्य वन संरक्षक, के नेतृत्व में कार्यरत है जो संस्थान के निदेशक भी हैं।वन-वर्धकों के दक्षिणी क्षेत्र का मुख्यालय भी परिसर में स्थित है।राज्य वन-वर्धकों की अध्यक्षता में दो क्षेत्रीय संस्थान हैं एक- राम नगर में सीबी गज, बरेली, और एक अन्य संस्थान (वाराणसी) में है।

राज्य वन-वर्धक भारतीय वन सेवा के वरिष्ठ सदस्य हैं।प्रत्येक वन वर्धक को एक सहायक वन वर्धक की सहायता प्रदान की जा रही है जो राज्य वन सेवा के एक सदस्य होता है।संस्थान का प्रत्येक क्षेत्रीय -केंद्र विशेषकर क्षेत्र परीक्षण के संचालन के लिए विशेषज्ञ केंद्र है।वन अनुसंधान केंद्र, यूपी में संबंधित क्षेत्र में प्रयोगशाला के साथ-साथ वानिकी के विभिन्न पहलुओं से अनुसंधान आयोजित करने की सुविधा उपलब्ध है। अनुसंधान के प्रमुख क्षेत्र निम्नानुसार हैं:

  • वृक्ष सुधार कार्यक्रमों के माध्यम से वन की उत्पादकता में वृद्धि।
  • रोपण सामग्री में सुधार।
  • गुणवत्ता बीजों की आपूर्ति।
  • दुर्दम्य क्षेत्रों के लिए उपयुक्त रोपण तकनीक का विकास।
  • औषधीय पौधों का एक्स-सीटू के साथ-साथ इन-सीटू संरक्षण।
  • उपयुक्त कृषि वानिकी मॉडलों का विकास।
  • पारिस्थितिकी और प्रदूषण से संबंधित अध्ययन।
  • कुछ महत्वपूर्ण औषधीय पौधों की खेती तकनीकों का मानकीकरण।
  • विभिन्न वन-वर्धन प्रणाली की उपयुक्तता का मूल्यांकन।
  • तकनीकी बुलेटिन के साथ साथ लैब टू लैंड पत्रक का प्रकाशन ।