Javascript Required नई योजना-वन एवं वन्य जीव विभाग उत्तर प्रदेश

वन एवं वन्य जीव विभाग,

उत्तर प्रदेश सरकार, भारत

नई योजनाएं

वन एवं वन्य जीव विभाग में संचालित नई योजनाओं का संक्षिप्त विवरण
1. वृक्षारोपण योजनाएँ
  • टोटल फारेस्ट कवर योजना जनपद मैनपुरी इटावा लखनऊ उन्नाव कन्नौज तथा बदांयू को पूर्ण रूप से हरा–भरा करने के लिए टोटल फारेस्ट कवर योजना वित्तीय वर्ष 2014–15 से प्रारम्भ की जा रही है। प्रस्तावित योजना में उक्त जनपदों में खाली पडी भूमि पर अग्रिम मृदा कार्य कराकर वृक्षारोपण, ब्रिकगार्ड निर्माण कर वृक्षारोपण, ट्री गार्ड में वृक्षारोपण तथा सडक ⁄ रेल ⁄ नहर की पटरी पर फेंसिंग कर वृक्षारोपण कराया जाना है।
  • वनावरण संर्वद्धन परियोजना अवनत वन एवं खुले वन क्षेत्रों में वनावरण संर्वद्धन के उद्देश्य से प्रदेश के 18 जनपदों (आगरा, अलीगढ, बरेली ,मेरठ, सहारनपुर, मुरादाबाद, झांसी, बांदा, कानपुर नगर, लखनऊ, फैजाबाद, गोण्डा, वाराणसी, मिर्जापुर, इलाहाबाद, गोरखपुर, बस्ती, एवं आजमगढ) में नाबार्ड के सहयोग से वृक्षारोपण की चार वर्षीय योजना प्रस्तावित है।
2. वन्यजीव संरक्षण एवं इको पर्यटन सम्बन्धी योजनाऍ
  • जनपद–एटा के ग्राम अमृतपुर रघुपुर में वन्यजीव संरक्षण जनपद एटा के अमृतपुर रघुपुर ग्राम में वन्यजीव संरक्षण हेतु आवश्यक कार्य कराने हेतु यह योजना प्रारम्भ की गयी है। ग्राम अमृतपुर रघुपुर में वन्य जीव संरक्षण योजना के अन्तर्गत वर्तमान वर्षाकाल में रोपण कार्य कराया जा रहा है।
  • सारनाथ वाराणसी में सिंचाई विभाग की भूमि वन एवं वन्य जीव विभाग को हस्तांतरित करने हेतु योजना वाराणसी में सारनाथ पार्क स्थित सिंचाई विभाग की राजकीय नलकूप संख्या–14 एन०बी०जी० बरईपुर को नलकूप की भूमि समस्त स्ट्रक्चर एवं वृक्षों सहित कीमत, सिचाई विभाग को देकर वन एवं वन्य जीव विभाग को हस्तान्तरित करने हेतु नई योजना प्रारम्भ की गयी है।
  • समान पक्षी विहार में भूमि का प्रतिकर समान पक्षी विहार में अधिग्रहित भूमि के प्रतिकर का भुगतान किसानों को करने हेतु नर्इ योजना प्रारम्भ की गयी है। मैनपुरी में समान एक प्राकृतिक झील है। आस–पास के गांवों से पानी आकर यहां एकत्रित होता है तथा इसमें विभाग द्वारा प्राकृति वास सुधार कार्य, झील सफाई कार्य व गहरा कराने का कार्य किया जाता है। यह क्षेत्र सारस क्रेन के लिए विश्व प्रसिद्ध है। पक्षी वास स्थल का विकास, पक्षियों की सुरक्षा प्रदान करना पर्यटन स्थल का विकास पक्षियों की सुरक्षा प्रदान करना, पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाना, अगि्न दुर्घटनाओं से रोकथाम तथा शोध कार्यों को प्रोत्साहन दिये जाने हेतु यह योजना क्रियान्वित की जा रही है।
  • कानपुर प्राणि उद्यान में गन्द्र नाले के पानी की ओवरफ्लो की समस्या के निराकरण हेतु आर०सी०सी० नाले का निर्माण कानपुर प्राणि उद्यान में बह रहे गन्दे नाले से पानी के बहाव की समस्या के निदान के लिए यह योजना प्रारम्भ की गयी है। कानपुर प्राणि उद्यान स्थित झील में गन्द्र जल का एकत्र होना प्राणि उद्यान के जलवायु के साथ – साथ समीपवर्ती आबादी के लिए भी हानिकारक है। गन्दा जल, हानिकारक वैक्टीरिया, वायरस, फंगस आदि प्रत्यक्ष्ज्ञ अथवा अप्रत्यक्ष रूप से वन्य जीवों को हानि पहुंचाते हैं। कानपुर प्राणि उद्यान में वास कर रहे जीवों, कार्मिकों एवं आने वाले दर्शकों को रोगमुक्त रखने हेतु प्रदूषित जल को निकाल कर पूरे स्थल को वैक्टीरियामुक्त किये जाने के दृष्टिगत यह योजना कानपुर प्राणि उद्यान में संचालित की जा रही है।